आत्मनिर्भर भारत के लिए प्रधान मंत्री मोदीजी की दूरदृस्टि

आत्मनिर्भर भारत हमारे माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की दूरदृस्टि है, भारत को आत्मनिर्भर राष्ट्र बनाने के लिए। मई के महीने में जब देश कोरोना वायरस महामारी के कारण भारी आर्थिक मंदी से जूंझ रहा था तब देश को इस संकट से राहत पहुंचाने के लिए प्रधान मंत्री जी ने 12 मई 2020 को देश को संबोधन करते हुए 20 लाख करोड़ के आर्थिक राहत पैकेज की घोषणा की.इसी आर्थिक पैकेज घोषणा के दौरान उन्होंने देश को आत्मनिर्भर राष्ट्र बनाने की योजना की पेशकश की. इसके आलावा उन्होंने देश को संबोधन करते हुए “जान भी जहान भी” अभियान की भी घोषणा की,जिसमें उन्होंने इस बात की पुष्टि की कि "हमें अपनी रक्षा भी करनी है और उसी समय आगे भी बढ़ना है।

मोदीजी की तरह, एक भारतीय होने के नाते, हम सभी को यह समझना चाहिए कि स्थानीय उत्पादों के उपभोग के साथ-साथ उत्पादन में वृद्धि के लिए एक बहुत बड़ा योगदान देना हमारी जिम्मेदारी बन गई है.

देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने यह स्पष्ट किया कि आत्मनिर्भर भारत का मतलब बाकी दुनिया से कटना नहीं है और यह संरक्षणवाद के बारे में भी नहीं है. आत्मनिर्भर भारत अभियान ही एकमात्र रास्ता है देश को स्वतंत्र और आत्मनिर्भर बनाने का। हमारे धर्मग्रंथों में भी कहा गया है- एषपन्थः जो भारत की आत्मनिर्भरता के इर्द-गिर्द घूमती है। कानून और सूचना प्रौद्योगिकी(Law and IT Minister) मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि आत्मनिर्भरता का मतलब "दुनिया से अलग-थलग करना नहीं है।" बल्कि वैश्विक आर्थिक स्तर पर भारत की भूमिका को बढ़ाना है। आगे जोड़ते हुए वे कहते है की- भारत को आत्मनिर्भर राष्ट्र बनाने के लिए हम देश में हम FDI(फॉरेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट) और टेक्नोलॉजी का स्वागत करते है. अत्मनिर्भर भारत पैकेज के हिस्से के रूप में कई सरकारी फैसले हुए हैं जैसे कि MSMEs की परिभाषा में बदलाव, विभिन्न क्षेत्रों में निजी भागीदारी के लिए श्रेष्ठ गुंजाइश और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में वृद्धि आदि.

कोरोना वायरस महामारी के दौरान हमें देश में व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों (PPE) किट की भारी कमी का सामना करना पड़ा। देश में PPE किट की बढ़ती मांग को देखते हुए भारत में ही इसका निर्माण शुरू हुआ. मार्च महीने में देश में PPE किट का निर्माण शून्य से शुरू हुआ और मई महीने की शुरुआत में अब देश में एक दिन में लगभग 1,50,000 किट का निर्माण किया जाता है. आज भारत दुनिया का सबसे बड़ा PPE किट निर्यात करने वाला देश है. यह आत्मनिर्भर भारत का एक सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है। अब, भारत में PPE उद्योग सिर्फ 2 महीने के अंदर 7,000 करोड़ का हो गया है. जो की चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा उद्योग है। देश में ₹ 21,000 करोड़ रुपये का सबसे बड़ा कोष IIT पूर्व छात्र परिषद द्वारा आत्मनिर्भर भारत की दिशा में मिशन का समर्थन करने के लिए स्थापित किया गया था।

आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत, हमें अपने स्थानीय भारतीय उत्पादों की आवाज़ बनना चाहिए, इसके साथ ही हमें भारतीय उत्पाद को ग्लोबल ब्रांड बनाने के लिए 'वोकल फॉर लोकल' अभियान का हिस्सा बनना चाहिए और देश को आत्मनिर्भर भारत बनाने में अपना समर्थन देना चाहिए।

आत्मनिर्भर सेना के बारे में

माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के दृष्टिकोण से प्रेरित, आत्मनिर्भर सेना उन युवा स्वयंसेवकों और नए उत्साही उद्यमियों को संपूर्ण सहायता प्रदान करने के लिए पूरी तरह तैयार है, जो अपने स्टार्टअप को स्थापित करने और विस्तार करने की तलाश में हैं। हमारा संगठन नए उभरे उद्यमियों की प्रतिभाओं का पोषण करके, उन्हें भविष्य के संगठित नेताओं और सफल उद्यमियों के रूप में तैयार करने के लिए एक सहायक ढांचा प्रदान करता है।

हर गुजरते दशक के साथ, हमारी भारतीय अर्थव्यवस्था तेजी से महत्वपूर्ण उपलब्धियों की दिशा में आगे बढ़ रही है। भारत स्टार्टअप के मामले में तीसरे सबसे बड़े राष्ट्र के रूप में उभरा है क्योंकि देश में 50,000 से अधिक पंजीकृत स्टार्टअप हैं। स्टार्टअप की बढ़ती संख्या होने के बावजूद, केवल 9% स्टार्टअप ही भारत में महिलाओं द्वारा नेतृत्व वाले हैं। यह आंकड़ा स्पष्ट रूप से बताता है कि भारत में पुरुष उद्यमियों के मुकाबले महिला उद्यमिओं की संख्या बहुत काम है. जिसका सबसे बड़ा कारण है कि महिला उद्यमिओं को उद्यम शुरू करने के समय बहुत सी बाधाओं का सामना करना पड़ता है। आत्मनिर्भर सेना महिला उद्यमियों को प्रोत्साहित करने और उन्हें वित्तीय सहायता के साथ बेहतर मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए रणनीति तैयार कर रही है.

बहु-आयामी लक्ष्य एक ही भंडार में हैं

आत्मनिर्भर सेना में, उन युवा उद्यमिओं को जो इस तरह की क्षमता रखते है पर अपनी क्षमताओं को साबित करने के लिए कोई मंच नहीं पा सके, उन्हें सदस्य्ता और वित्तय सहायता मिलेगी. इसके अलावा, उन्हें व्यवसाय और अनुपालन प्रशिक्षण के साथ-साथ अन्य प्रशिक्षण भी मिलेंगे जो उन्हें कौशल को और बढ़ाएगा। हमारे मेंटरशिप प्रोग्रामों के तहत, हम विभिन्न क्षेत्रों के उद्यमियों को समर्थन देने की योजना बना रहे हैं।

आत्मनिर्भर सेना अपने संबंधित स्टार्टअप विचारों के लिए रोडमैप तैयार करने में उद्यमियों की मदद करके प्रतिमाओं को स्थानांतरित करने की योजना तैयार कर रही है और इसके साथ ही स्टार्टअप्स और उद्यमों को स्थापित करने की प्रक्रिया में उनकी सहायता कर रही है। इन सबसे ऊपर, हम मोदी की आत्मनिर्भर भारत की दृष्टि के साथ आगे बढ़ने और नए उद्यमियों के लिए उपुक्त मंच बनने की योजना बना रहे हैं। हमारे मांग-आधारित प्रशिक्षण कार्यक्रमों के तहत, हम नए उद्यमों को प्रशिक्षण प्रदान करना चाहते हैं, जिसके माध्यम से हम भारत में आत्मनिर्भर क्रांति को गति दे सकें।

हमारे साझेदार संगठन और व्यवसाय विशेषज्ञ, आपको स्टार्टअप व्यवसायों के विकास और प्रबंधन के बारे में मार्गदर्शन प्रदान करेंगे। साथ ही, हम आपके व्यवसाय को सुचारू रूप से चलाने में मदद करने के लिए धन संबंधी सहायता देने वाले छेत्र के साथ सहायता करेंगे।

फेरीवालों और सड़क विक्रेताओं के लिए हमारा दृष्टिकोण

साल 2020 में इस कोविड-19 संकट ने भारत के बाजार और अर्थव्यवस्था को बुरी तरह प्रभावित किया है। इस समस्या से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले वर्ग में छोटे विक्रेता, फेरीवाले, छोटे व्यवसाय उद्यमी आदि हैं। कोविड-19 महामारी से फैली इस समस्या के मद्देनजर आत्मनिर्भर सेना सड़क विक्रेताओं और फेरीवालों के क्षतिग्रस्त जीवन को फिर से बनाने के लिए कमर कस रही है।

हमने सड़क विक्रेताओं और फेरीवालों को सस्ती ऋण प्राप्त करने में सहायता करने की योजना का ब्लूप्रिंट तैयार किया है ताकि वे पूरी दुनिया में कोविड-19 की द्वारा फैलाई गई सभी कठिनाइयों के बीच अपना काम बेहतर तरीके से शुरू कर सकें।

इस समय की सबसे बड़ी जरूरत है कि वे अपने व्यवसायों को आगे बढ़ाने के लिए एक बहुत जरूरी धक्का दें और एक सच्चे योद्धा की तरह कोरोनो वायरस संकट के समय में भी अपनी आजीविका को चलाने में सक्षम बने। अपनी शहरी आजीविका कार्यक्रमों के माध्यम से, हम अपने सपनों और उपलब्धियों की सीढ़ी पर चढ़ने के मिशन के साथ फेरीवालों और सड़क विक्रेताओं को उनकी मदद के लिए ऋण देंगे। सड़क विक्रेताओं और फेरीवालों की विकट स्थिति को देखते हुए भारत सरकार कई योजनाएं लाई हैं, लेकिन उनकी आवश्यकता इससे कहीं अधिक है और इस प्रकार हमारी आत्मनिर्भर सेना की भूमिका शुरू होती है।

आत्मनिर्भर सेना की टीम के सदस्य कौशल विकास और प्रशिक्षण कार्यक्रमों के माध्यम से, सड़क विक्रेताओं और फेरीवालों के कौशल को विकसित करने की दिशा में काम करेंगे जो हमारी परियोजना का ही एक हिस्सा हैं। हम दुनिया में मौजूदा विकट परिस्थितिओं के बीच अपने अस्तित्व को सुरक्षित करने के लिए संघर्ष कर रहे फेरीवालों और सड़क विक्रेताओं की आवाज बन रहे हैं।

किसानों के मुद्दों और उनके समाधान खोजने पर नजर रखना

भारतीय किसानों की दुर्दशा के बारे में आत्मनिर्भर सेना के सदस्यों द्वारा किए गए विश्लेषण के बाद, आत्मनिर्भर सेना भारतीय किसानों के सभी जरुरी मुद्दों को जोड़कर, उनपर काम करने का प्रयास कर रही है। हम किसानों को कृषि पद्धतियों से लैस करेंगे और उनकी वित्तीय और अन्य आवश्यकताओं को पूरा करके उनकी सहायता करेंगे।

इसके अलावा, हम पूरे भारत में किसानों के जीवन को बदलने के लिए टिकाऊ खेती को बढ़ावा देने का प्रयास कर रहे हैं।

आत्मनिर्भर सेना के रूप में हमारा लक्ष्य

इस संकट जैसी स्थिति में जहां पूरी दुनिया कोविड -19 महामारी और आर्थिक मंदी से जूझ रही है, हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत की केंद्र सरकार ने 'आत्मनिर्भर' भारत की अवधारणा को शुरू किया है।

इस अवधारणा का उद्देश्य भारतीय अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करना और 'स्थानीय' उत्पादों को बढ़ावा देना है। यह मिशन पांच मुख्य आधारों पर आधारित है, जैसे कि अर्थव्यवस्था, आधारभूत संरचना, प्रणाली, जीवंत जनसांख्यिकी और मांग। 'आत्मनिर्भर ’भारत, मेक इन इंडिया पहल का ही पूरक है, जो भारत में विनिर्माण को प्रोत्साहित करता है।

आत्मनिर्भर सेना का उद्देश्य, भारत को एक आत्मनिर्भर राष्ट्र बनाने के हमारे प्रधान मंत्री के दृष्टिकोण को आगे बढ़ाना है। हम अपने देश के लोगों को आत्मनिर्भर बनने के लिए हर संभव तरीके से समर्थन और मार्गदर्शन देने का इरादा रखते हैं।

एक आत्मनिर्भर राष्ट्र बनने के लिए, नए व्यवसायों और विचारों को देश के भीतर सतह पर लाने की जरूरत है। जितना अधिक हम स्थानीय व्यवसायों और उनके विकास पर ध्यान केंद्रित करेंगे, उतना ही हम आत्मनिर्भर बनेंगे। आत्मनिर्भर सेना आपके व्यवसाय को शुरू करने के लिए पूंजी की व्यवस्था करने में आपकी सहायता करेगी और व्यवसाय पंजीकरण की प्रक्रिया की पेचीदगियों के माध्यम से आपके लिए रास्ता तैयार करेगी, जो की कई बार बिना किसी उचित मार्गदर्शन के मुश्किल हो सकती है।

व्यवसाय विशेषज्ञों की हमारी टीम, अपने विचारों और आवश्यकताओं के अनुसार हमारे देश के इच्छुक उद्यमियों के लिए एक आदर्श व्यवसाय शुरू करने की योजना बनाने में दृढ़ है। इसके अलावा, हम अपने देश के युवाओं को उद्योग-संबंधित कौशल प्रशिक्षण प्रदान करना चाहते हैं, जो अंततः बेहतर आजीविका को बनाने में उनकी मदद करेगा।

हमारा लक्ष्य अपने देश के नागरिकों को उनके भविष्य के प्रयासों में वित्तीय सहायता प्रदान करके और उन्हें अपने व्यवसाय के विकास के लिए मार्गदर्शन प्रदान करना है। इसके अलावा, हमारे कौशल विकास कार्यक्रम, उम्मीदवारों के कौशल को अंतरराष्ट्रीय मानकों में उन्नत करेंगे और विभिन्न क्षेत्रों में कुशल कार्यबल का एक पूल बनाएंगे।

आत्मनिर्भर सेना के इन सभी प्रयासों से अंततः स्थानीय व्यवसायों को बढ़ने, अधिक रोजगार के अवसर पैदा करने और भारत को एक स्वतंत्र देश बनाने में मदद मिलेगी।

हमारी पहल

भारत को एक आत्मनिर्भर राष्ट्र बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल को पूरे देश ने पूरी उत्साह के साथ स्वीकार किया है चाहे वह नीति निर्माता कॉरपोरेट हों या व्यापारी। हमारे देश को आत्मनिर्भर बनाने के उत्साह से प्रेरित, आत्मनिर्भर सेना छोटे व्यवसायों, सड़क विक्रेताओं और फेरीवालों को जमीन से उठने, बढ़ने और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में उनकी मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है।

हम बिज़नेस डेवलपमेंट ट्रेनिंग और अन्य ट्रेनिंग प्रोग्रामों के माध्यम से आर्थिक रूप से महिलाओं और अल्पसंख्यकों को सशक्त बनाने के लिए भी समर्पित हैं।

आज, दुनिया ने कोविड -19 महामारी के कारण सभी मोर्चों पर जबरदस्त परिवर्तन देखा है, और वैश्विक बाजार प्रवाह की स्थिति में है। वैश्विक बाजारों के आसपास अनिश्चितता ने भारत को वैश्विक स्तर पर कदम रखने का अवसर प्रदान किया है और साथ ही साथ इसने घरेलू अर्थव्यवस्था को भी मजबूत किया है। हम सभी की जरूरत है, उचित व्यवसाय विकास मार्गदर्शन, पूंजीगत धन, और तकनीकी सहायता। किसी भी राष्ट्र को आत्मनिर्भर बनने के लिए एक कुशल कार्यबल की भी आवश्यकता होती है।

आत्मनिर्भर देश के लिए आत्मनिर्भर सेना इन शर्तो को समझती है। इसलिए, हमने अपने देश के युवाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए एक कार्यक्रम तैयार किया है। हम स्कूल छोड़ने वालों, मौजूदा श्रमिकों, आईटीआई स्नातकों, आदि को प्रशिक्षण प्रदान करना चाहते हैं, और उनकी रोजगार क्षमता में वृद्धि करते हैं।

आत्मनिर्भर सेना पूरे देश में एक उज्ज्वल स्थान बनने की विशाल क्षमता पर विश्वास करती है। हमने देश के नवोदित उद्यमियों को नो-कॉस्ट या लो-कॉस्ट व्यवसाय विकास सदस्य्ता, पूंजी व्यवस्था, वित्तीय प्रबंधन, निर्यात रणनीतियों, तकनीकी सहायता और अन्य संबंधित सेवाओं की पेशकश करने का निर्णय लिया।

कोविद -19 महामारी ने फेरीवालों और सड़क विक्रेताओं की आजीविका को भी बुरी तरह प्रभावित किया है। नकदी प्रवाह सूखने के साथ, फेरीवाले और सड़क विक्रेता बहुत कम पूंजी के साथ बचे हैं। उन्हें अपने व्यवसाय को पुनर्जीवित करने में मदद करने के लिए, हम उन्हें सस्ती ऋण प्राप्त करने में मदद करेंगे। हम सभी इस तथ्य से परिचित हैं कि भारत मुख्य रूप से एक कृषि प्रधान देश है।

चावल और गेहूं जैसे खाद्य पदार्थ के वैश्विक हिस्से का ज्यादातर हिस्सा भारत से आता है। इस कोविड-19 महामारी ने नए जोखिम लाए हैं जो किसानों की आजीविका के साथ-साथ खाद्य सुरक्षा को भी खतरे में डालते हैं।

इस चुनौतीपूर्ण समय में, आत्मनिर्भर सेना स्थानीय सरकार के अधिकारियों के साथ मिलकर किसानों के कल्याण के लिए काम करने और उनकी फसल के लिए उचित परिवहन सुविधाएं प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है, जिससे अगली फसल के मौसम के लिए बीज और उर्वरकों की उपलब्धता सुनिश्चित हो सके, और अन्य आवश्यकताओं को पूरा कर सकें। देश को आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ाने के लिए हमारी पहल:

(क) बाजार अनुसंधान

(ख) नए उद्यम के लिए प्रशिक्षण

(ग) सदस्यता

(घ) पूंजी सहायता

(च) ज्ञान का उन्नयन

(छ) उद्यमी संघ

(ज) व्यवसाय और अनुपालन प्रशिक्षण

स्टार्टअप इकोसिस्टम

स्टार्टअप इकोसिस्टम

भारत सरकार ने देश में स्टार्टअप कल्चर को बढ़ाने के लिए 2016 में एक उद्देश्पूर्ण लक्ष्य के साथ स्टार्टअप इंडिया की पहल शूरू की है|

सदस्यता

सदस्यता

एक सफल स्टार्टअप के लिए स्टार्टअप इकोसिस्टम में सदस्यता को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। हर दिन 2-3 स्टार्टअप उद्योग भारत..
उद्योगों को प्रशिक्षण

उद्योगों को प्रशिक्षण

छोटे और नए उद्योगों ने देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ाने में एक बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। छोटे उद्योग बड़े पैमाने पर रोजगार उत्पन्न करने में अहम् भूमिका निभाते है.
बाजार अनुसंधान

बाजार अनुसंधान

व्यापार बाजार में किसी भी व्यवसाय के फलने और प्रतिस्पर्धा में बढ़त हासिल करने के लिए लगातार बाजार संशोधन करना आवश्यक है.
व्यवसाय और अनुपालन प्रशिक्षण

व्यवसाय और अनुपालन प्रशिक्षण

यह एक बार एक अमेरिकी अटॉर्नी पॉल मैकनेकल द्वारा कहा गया था, "यदि आपको लगता है कि अनुपालन महंगा है

पूंजी सहायता

पूंजी सहायता

भारत को वैश्विक स्तर पर आत्मनिर्भर बनाने के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी के दृश्टिकोण ने आत्मनिर्भरता के प्रगतिशील पथ पर..

हमारे नेताओं से मिलें

आत्मनिर्भर सेना
1000+

लोग हमारी टीम में
शामिल हों

100+

लोग हमारे संगठन को
दान करते हैं।

200+

नेताओं हमारे
संगठन।